Advertisement

Advertisement
रामपुर/नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के रामपुर के सपा विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान को गुरुवार को अंतरिम जमानत दे दी है. वहीं, सपा विधायक को अंतरिम जमानत मिलने के बाद उनकी पत्‍नी तंजीम फातिमा ने बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि यह सत्य की जीत है. कोर्ट ने हमें राहत दी है, मैं उन सभी लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहती हूं जिन्होंने मुश्किल समय में हमारा साथ दिया. इसके साथ उन्‍होंने बताया कि सीतापुर जेल से रिहा होने के बाद आजम खान सीधे रामपुर जाएंगे. हालांकि आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा ने अखिलेश यादव को लेकर कहा कि वह सपा प्रमुख के बारे में कुछ भी कहना नहीं चाहती हैं. इसके अलावा रामपुर में आजम खान के समर्थकों ने सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम जमानत मिलने पर मिठाई बांटकर खुशी मनाई है.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपनी शक्ति का प्रयोग करते हुए आजम खान को अंतरिम जमानत दी है. इसके साथ समाजवादी पार्टी के दिग्‍गज नेता को 89वें मामले में अंतरिम जमानत मिल गई है. इससे पहले उनको 88 मामलों में जमानत मिल चुकी है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल उन्हें अंतरिम जमानत दी गई है. जबकि सपा नेता को रेगुलर बेल के लिए निचली अदालत में दो हफ्ते में अर्जी दाखिल करनी होगी. साथ ही कहा कि जब तक निचली अदालत जमानत पर कोई फैसला नहीं लेती तब तक आजम खान अंतरिम जमानत पर रिहा रहेंगे. सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एल नागेश्वर राव, जस्टिस बीआर गवाई, जस्टिस एस गोपन्ना की बेंच इस पर जमानत पर फैसला सुनाया है.

26 महीने से सीतापुर जेल में बंद हैं आजम खान
बहरहाल, रामपुर के सपा विधायक आजम खान 80 से ज्‍यादा मामलों में पिछले 26 महीने से सीतापुर जेल में बंद हैं. यही नहीं, जब वह एक केस में जमानत लेते हैं तो उनके खिलाफ दूसरा केस दायर हो जाता. इसी वजह से सपा विधायक के परिवान ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान को राहत दे दी है. वहीं, उनकी अंतिरम जमानत के बाद यूपी का सियासी पारा चढ़ना तय है.

दरअसल सपा प्रमुख अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने आजम को लेकर ट्वीट करते हुए लिखा,’ सत्यमेव जयते नानृतं सत्येन पन्था विततो देवयानः. लम्बे अरसे से न्याय की जिस घड़ी की प्रतीक्षा थी वह आज पूर्ण हुई है. आजम खान साहब को सर्वोच्च न्यायालय ने अंतरिम जमानत दे दी है. उन्हें व्यवस्था की घोर प्रताड़ना से न्याय मिला है.भारत की न्याय व्यवस्था उम्मीद की एक किरण है. नमन.’

Tags: Akhilesh yadav, Azam Khan, Shivpal singh yadav, Supreme court of india

Source link

Advertisement

Leave a Reply