Advertisement

“कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हँसा हम रोएँ,

ऐसी करनी कर चलो, हम हँसे जग रोए”.

रोहतक : संत कबीर की सारगर्भित कालजयी वाणी को बीती शाम महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) के टैगोर सभागार में आयोजित कबीर जयंती कार्यक्रम में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त भजन गायक कुमार विशु ने समधुर स्वर देकर भाव विभोर कर दिया।
विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण कार्यालय तथा संगीत विभाग द्वारा आयोजित इस संगीतमय कार्यक्रम में कुमार विशु ने कबीर रचना के साथ-साथ दिव्य भजनों की प्रस्तुति से उपस्थित जन को दिव्यता का आभास करवाया।

Advertisement


विश्वविद्यालय के संगीत विभाग के पूर्व छात्र रहे कुमार विशु ने संत कबीर के दोहों की संगीतमय प्रस्तुति से संत कबीर को स्वरांजलि दी। तदुपरांत, कबीर द्वारा रचित ‘मन लागो मेरो मन फकीरी में’, चदरिया झीनी रे झीनी’, ‘उड़ जा हंस अकेला’ की शानदार प्रस्तुति दी।
तबले पर दीपक पंडित, बांसुरी पर ओंकार प्रसन्ना, की-बोर्ड पर संजय भारद्वाज तथा बैंजो पर बाबू जान ने सुंदर संगत दी। कुमार विशु ने अपने लोकप्रिय भजन ‘कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं’ समेत भजन ‘कैसे भोग लगाऊँ’, ‘अच्युतम केशवम’ तथा ‘गोविन्द बोलो हरि गोपाल बोलो राधा रमन भई गोपाल बोलो’, आदि की शानदार प्रस्तुतियों से उपस्थित जन को भक्ति रस से सराबोर कर दिया। उपस्थित जन कबीर की रचनाओं तथा भक्ति रस रचनाओं की संगीतमय बरसात में भीग गए।


कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पं. लख्मीचंद स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ परफार्मिंग एण्ड विजुअल आर्ट्स के कुलपति गजेन्द्र चौहान ने कहा कि वर्षों पहले संत कबीर की सृजित रचनाएँ आज भी प्रासंगिक हैं। उन्होंने संत कबीर जयंती पर इस संगीतमय भावांजलि के लिए कुमार विशु तथा मदवि प्रशासन का आभार जताया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मदवि कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव श्रृंखला के तहत आयोजित इस कार्यक्रम के जरिये महान संत कबीर दास जी को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। सामाजिक समरसता तथा सांप्रदायिक सौहार्द का पाठ पढ़ाने वाले संत कबीर को कुलपति ने नमन किया।
कार्यक्रम का संचालन निदेशक युवा कल्याण डा. जगबीर राठी ने किया। स्वागत भाषण अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. राजकुमार ने दिया। मदवि की प्रथम महिला डा. शरणजीत कौर की गरिमामयी उपस्थिति कार्यक्रम में रही। संगीत विभागाध्यक्ष प्रो. विमल, एम डी यू के पूर्व छात्र तथा दिल्ली में न्यायिक सेवा अधिकारी गौतम मनन, निदेशक जनसंपर्क सुनित मुखर्जी, सहायक निदेशक युवा कल्याण डा. प्रताप राठी, संगीत विभाग के प्राध्यापक, शोधार्थी, विद्यार्थी समेत अन्य प्रबुद्ध जन कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

Advertisement

Leave a Reply