Advertisement
Photo:FILE Palm oil

खाने पीने के सामान की महंगाई से परेशान आम लोगों के लिए एक बड़ी राहत भरी खबर है। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने गुरुवार को घोषणा की है कि घरेलू खाना पकाने के तेल की आपूर्ति की स्थिति में सुधार के बाद, इंडोनेशिया सोमवार से पाम तेल निर्यात प्रतिबंध हटा देगा। बता दें कि भारत में खाने के तेल का आयात मुख्यत: इंडोनेशिया से होता है। इंडोनेशिया ने पिछले महीने निर्यात पर प्रतिबंध लगाया था, जिससे भारत में कीमतों में तेज उछाल आ गया था। 

Advertisement

28 अप्रैल को लगाया था प्रतिबंध 

दुनिया के शीर्ष पाम तेल निर्यातक ने घरेलू खाना पकाने के तेल की बढ़ती कीमतों पर काबू पाने के लिए 28 अप्रैल से कच्चे पाम तेल (सीपीओ) और कुछ डेरिवेटिव उत्पादों के शिपमेंट पर रोक लगा दी थी। राष्ट्रपति ने एक वीडियो बयान में कहा कि यह फैसला थोक खाना पकाने के तेल के लक्षित 14,000 रुपये प्रति लीटर की कीमत पर अभी तक कम नहीं होने के बावजूद आया है।  

Palm oil

Image Source : FILE

Palm oil

घरेलू सप्लाई बढ़ने के बाद फैसला 

राष्ट्रपति जोकोवी ने कहा कि खाना पकाने के तेल की आपूर्ति अब घरेलू बाजार की तुलना में अधिक स्तर पर पहुंच गई है। उन्होंने कहा, “अप्रैल में निर्यात प्रतिबंध से पहले (थोक) खाना पकाने के तेल की औसत कीमत 19,800 रुपये प्रति लीटर थी और प्रतिबंध के बाद औसत कीमत लगभग 17,200 से घटकर 17,600 रुपये प्रति लीटर हो गई।”

भारत में घटेंगी कीमतें 

इंडोनेशिया के इस फैसले के बाद  तेल की कीमतों में नरमी आ सकती है। एक्सपर्ट्स ने कहा कि बैन हटने के तुरंत बाद 2-2.5 लाख टन पाम ऑयल भारत आ जाएगा जिसके सप्लाई की स्थिति बेहतर होगी। दरअसल, भारत 60-70% ऑयल इंपोर्ट करता है। इसमें से भी 50-60% पाम ऑयल है। 

Source

Advertisement

Leave a Reply