घर या फोन पर नहीं आया बिजली बिल तो होगा नुकसान, उपभोक्ता देंगे पेनल्टी, कट सकता है कनेक्शन

0
26
Advertisement

Advertisement
ऐप पर पढ़ें
मेरठ शहर के अधिकांश उपभोक्ताओं को पिछले दो महीनों से बिजली के बिल नहीं मिले। स्थिति यह है कि उपभोक्ताओं को बिजली बिल तो मिले ही नहीं, साथ ही पावर कारपोरेशन में उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर बिजली बिल धनराशि का एसएमएस भी नहीं मिल रहा हैं। ऐसे में पावर कारपोरेशन की लापरवाही का खामियाजा उपभोक्ताओं को उठाना पड़ रहा है। बकाएदारों की सूची में नाम आ जाने के कारण स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के ऑनलाइन ऑटोमैटिक बिजली कनेक्शन कट जा रहे है। 

मेरठ शहर में करीब साढ़े तीन लाख से अधिक उपभोक्ताओं है। करीब एक सौ करोड़ से अधिक का राजस्व आता है। शहर के विभिन्न इलाकों से उपभोक्ताओं की शिकायत है कि दो महीने से बिजली बिल नहीं मिल रहे है। बुढ़ाना गेट निवासी अक्षय को पिछले दो महीने से न तो बिजली का बिल मिला और न ही मोबाइल फोन पर एसएमएस आ रहे हैं। इसके चलते वह बिजली बिल जमा नहीं कर पा रहा। अंदेशा जता रहे हैं कि विभाग कहीं पेनल्टी न लगा दे।

खरगोश पकड़ने के पिंजरे में फंसा तेंदुआ, Video में देखें कैसे छटपटा कर खुद को छुड़ाया और भागा

मीरा एन्कलेव में रहने वाले गौरव को भी इस महीने बिजली का बिल अभी तक नहीं मिला। हर महीने के बिल को 17 तारीख को जमा करना होता है। बिजली कर्मचारी से पूछा तो कहा कि बिजली का बिल अभी अपडेट नहीं हुआ है। पूर्वा अहिरान निवासी ज्ञान प्रकाश को हर महीने छह से सात तारीख तक बिजली का बिल मिल जाता था और मोबाइल पर एसएमएस से सूचना भी आ जाती थी, लेकिन दो माह हो गए न तो बिजली का बिल मिला और न ही मोबाइल पर मैसेज आया।

शास्त्रीनगर निवासी वीरेंद्र को बिजली बिल मिला न मोबाइल पर एसएमएस आया तो वह बिल जमा नहीं कर पाए। नतीजन सोमवार को उनका ऑटोमैटिक बिजली कनेक्शन कट गया। बिजली बिल जमा किया और फिर बिजली चालू कराने को दौड़ लगाई।

उपभोक्ताओं को ब्लक में भेजे जाते हैं मैसेज

पश्चिमांचल के सभी 14 जिलों में उपभोक्ताओं को पावर कारपोरेशन बल्क में एक साथ बिजली बिलिंग से संबंधित मैसेज मोबाइल पर भेजता है। पिछले दो महीने से उपभोक्ताओं को मैसेज मोबाइल पर नहीं पहुंच रहे। बताया जा रहा है कि तकनीकी समस्या के कारण मैसेज नहीं जा पा रहे।

खतरा

– तीन महीने के बिल एक साथ आएंगे तो उपभोक्ता कैसे उसका भुगतान करेंगे?

– कम यूनिट का बिल मिलने पर जो छूट दी जाती थी, कई माह का बिल एक साथ बनेगा तो लोगों को विभाग द्वारा दी जाने वाली छूट कैसे मिल पाएगी?

– पिछले बिल विलंब से जमा करने पर पेनल्टी भरनी पड़ेगी। उपभोक्ताओं की जेब पर भार बढ़ेगा।

अधीक्षक अभियंता शहर, राजेंद्र बहादुर ने बताया कि बिजली बिल संबंधी उपभोक्ताओं को मोबाइल पर एसएमएस नहीं मिलने की कुछ शिकायतें संज्ञान में आई है, इस पर आईटी विंग में अधिकारियों से संपर्क किया जा रहा है। बिजली बिलों नहीं मिलने की शिकायत नहीं है, लेकिन जिन उपभोक्ताओं की शिकायतें है उनके आधार पर पड़ताल कराएंगे और नियमित बिजली बिल की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाएगी।

Source link

Advertisement

Leave a Reply