ड्राइवर के नाम पर 110 करोड़ का शराब कारोबार: पीड़ित की बात सुन अनिल विज भी हुए हैरान, मौके पर ही मिली सुरक्षा

0
30
Advertisement

Advertisement

अनिल विज
– फोटो : Twitter : @anilvijminister

ख़बर सुनें

शराब का एक ठेकेदार अपने ड्राइवर के नाम पर 110 करोड़ का अवैध कारोबार चला रहा था। इसकी भनक ड्राइवर को तब लगी जब उसका नाम अवैध शराब के कारोबार में आया और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद वह गृहमंत्री अनिल विज के दरबार में पहुंचा।यहां ड्राइवर ने जब शनिवार को आपबीती सुनाई तो विज समेत सभी लोग हतप्रभ रह गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए गृहमंत्री अनिल विज ने तुरंत प्रवर्तन निदेशालय, डीजीपी हरियाणा, इन्कम टैक्स और आबकारी-कराधान विभाग के अधिकारियों को मामले में जांच और सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए। इतना ही नहीं ड्राइवर को गृहमंत्री अनिल विज के निर्देश पर मौके पर ही पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई। इसके बाद पुलिस की सुरक्षा में ही उसे पानीपत लाया गया।

गृहमंत्री अनिल विज की ओर से इस शनिवार को जनता दरबार नहीं लगाया गया था। इसके बावजूद सैकड़ों की संख्या में शिकायतें लेकर विभिन्न जिलों से फरियादी वहां पहुंच गए। शिकायतकर्ताओं की भीड़ देख मंत्री विज ने लोगों की समस्याओं को सुनना शुरू किया। इसी बीच पानीपत के गांव जोसी निवासी युवक ने गृहमंत्री को शिकायत दी, जिसमें बताया गया कि वह पानीपत में शराब ठेकेदार के पास 15 हजार रुपये महीने की नौकरी करता था। इस दौरान शराब ठेकेदार ने उसके नाम से 110 करोड़ का कारोबार किया हुआ था। उसे इस बात की जानकारी तब मिली, जब उसका नाम अवैध शराब के मामले में सामने आया। उसका आरोप है कि पुलिस ने उसे जबरन गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया था। उसने अपनी बेगुनाही का सबूत भी दिया, मगर उसकी एक नहीं सुनी गई। उसका आरोप है कि पानीपत में बड़ा माफिया सक्रिय है जोकि अब उसके पीछे पड़ा है। यही कारण है कि उसकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उसने गृहमंत्री से जान का खतरा बताते हुए सुरक्षा की भी गुहार लगाई।

रोहतक से आए फौजी ने गृहमंत्री अनिल विज को शिकायत देते हुए बताया कि जमीनी विवाद में हत्या मामले की गवाही चल रही है, मगर आरोपी पक्ष मारपीट व गाली-गलौच कर उन पर दबाव बना रहा है। इस मामले में फौजी की सुनवाई करते हुए मंत्री विज ने तुरंत एसपी रोहतक को फोन कर मामले में एसआईटी गठित कर जांच के निर्देश दिए और शिकायतकर्ता को पुलिस सुरक्षा प्रदान करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फौजियों के साथ न इंसाफी नहीं होने दी जाएगी। 

इसी तरह, सोनीपत में धोखाधड़ी मामले की जांच के मंत्री विज ने सोनीपत एसपी को मामले में एसआईटी गठित कर जांच के निर्देश दिए। वहीं, कुरुक्षेत्र में विदेश भेजने के नाम पर लाखों रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में भी एसपी कुरुक्षेत्र को एसआईटी गठित कर जांच के निर्देश दिए।

जनसमस्याएं सुनते समय पत्रकारों से बातचीत के दौरान गृह मंत्री अनिल विज ने आम आदमी पार्टी के नेता की जेल में मसाज कराने के मामले में कहा कि आम आदमी पार्टी का जो कल्चर है वह धीरे-धीरे उजागर हो रहा है। उन्होंने कहा कि जेल प्रशासन के लोगों को आम आदमी पार्टी ने प्रभावित किया होगा तभी अंदर मालिश हो रही होगी।
कांग्रेस की ओर से भाजपा पर डर और घृणा फैलाने के आरोपों पर पलटवार करते हुए गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि भाजपा तो सारों के सुख के लिए काम करती है। सबका साथ सबका विकास हमारा नारा है। कांग्रेस को कहां से नफरत नजर आ रही है, यह समझ नहीं आता। कांग्रेस के अपने लोग अब कांग्रेस को छोड़ते जा रहे हैं। कांग्रेस अब एक-दो प्रदेशों में सिमट कर रह गई है।

विस्तार

शराब का एक ठेकेदार अपने ड्राइवर के नाम पर 110 करोड़ का अवैध कारोबार चला रहा था। इसकी भनक ड्राइवर को तब लगी जब उसका नाम अवैध शराब के कारोबार में आया और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद वह गृहमंत्री अनिल विज के दरबार में पहुंचा।

यहां ड्राइवर ने जब शनिवार को आपबीती सुनाई तो विज समेत सभी लोग हतप्रभ रह गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए गृहमंत्री अनिल विज ने तुरंत प्रवर्तन निदेशालय, डीजीपी हरियाणा, इन्कम टैक्स और आबकारी-कराधान विभाग के अधिकारियों को मामले में जांच और सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए। इतना ही नहीं ड्राइवर को गृहमंत्री अनिल विज के निर्देश पर मौके पर ही पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई। इसके बाद पुलिस की सुरक्षा में ही उसे पानीपत लाया गया।

गृहमंत्री अनिल विज की ओर से इस शनिवार को जनता दरबार नहीं लगाया गया था। इसके बावजूद सैकड़ों की संख्या में शिकायतें लेकर विभिन्न जिलों से फरियादी वहां पहुंच गए। शिकायतकर्ताओं की भीड़ देख मंत्री विज ने लोगों की समस्याओं को सुनना शुरू किया। इसी बीच पानीपत के गांव जोसी निवासी युवक ने गृहमंत्री को शिकायत दी, जिसमें बताया गया कि वह पानीपत में शराब ठेकेदार के पास 15 हजार रुपये महीने की नौकरी करता था। इस दौरान शराब ठेकेदार ने उसके नाम से 110 करोड़ का कारोबार किया हुआ था। उसे इस बात की जानकारी तब मिली, जब उसका नाम अवैध शराब के मामले में सामने आया। उसका आरोप है कि पुलिस ने उसे जबरन गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया था। उसने अपनी बेगुनाही का सबूत भी दिया, मगर उसकी एक नहीं सुनी गई। उसका आरोप है कि पानीपत में बड़ा माफिया सक्रिय है जोकि अब उसके पीछे पड़ा है। यही कारण है कि उसकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उसने गृहमंत्री से जान का खतरा बताते हुए सुरक्षा की भी गुहार लगाई।

रोहतक से आए फौजी ने गृहमंत्री अनिल विज को शिकायत देते हुए बताया कि जमीनी विवाद में हत्या मामले की गवाही चल रही है, मगर आरोपी पक्ष मारपीट व गाली-गलौच कर उन पर दबाव बना रहा है। इस मामले में फौजी की सुनवाई करते हुए मंत्री विज ने तुरंत एसपी रोहतक को फोन कर मामले में एसआईटी गठित कर जांच के निर्देश दिए और शिकायतकर्ता को पुलिस सुरक्षा प्रदान करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फौजियों के साथ न इंसाफी नहीं होने दी जाएगी। 

इसी तरह, सोनीपत में धोखाधड़ी मामले की जांच के मंत्री विज ने सोनीपत एसपी को मामले में एसआईटी गठित कर जांच के निर्देश दिए। वहीं, कुरुक्षेत्र में विदेश भेजने के नाम पर लाखों रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में भी एसपी कुरुक्षेत्र को एसआईटी गठित कर जांच के निर्देश दिए।
जनसमस्याएं सुनते समय पत्रकारों से बातचीत के दौरान गृह मंत्री अनिल विज ने आम आदमी पार्टी के नेता की जेल में मसाज कराने के मामले में कहा कि आम आदमी पार्टी का जो कल्चर है वह धीरे-धीरे उजागर हो रहा है। उन्होंने कहा कि जेल प्रशासन के लोगों को आम आदमी पार्टी ने प्रभावित किया होगा तभी अंदर मालिश हो रही होगी।

कांग्रेस की ओर से भाजपा पर डर और घृणा फैलाने के आरोपों पर पलटवार करते हुए गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि भाजपा तो सारों के सुख के लिए काम करती है। सबका साथ सबका विकास हमारा नारा है। कांग्रेस को कहां से नफरत नजर आ रही है, यह समझ नहीं आता। कांग्रेस के अपने लोग अब कांग्रेस को छोड़ते जा रहे हैं। कांग्रेस अब एक-दो प्रदेशों में सिमट कर रह गई है।

Source link

Advertisement

Leave a Reply