बेसहारा पशु बने परेशानी का सबब: नगर परिषद ने बनाई नंदीशाला के विस्तार करने की योजना, 800 पशुओं से बढ़ाकर चार हजार तक होगी

0
29
Advertisement

Advertisement
भिवानी2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

शहर में माैजूदा समय में शहरवासियाें के लिए सबसे बड़ी समस्या सड़क व गलियाें में घूमते हुए बेसहारा पशु हैं, जाे शहर में लगभग हर मुख्य मार्ग व गली में कहीं न कहीं सड़क पर बैठे मिलते हैं। 400 से ज्यादा पशु शहर की सड़काें पर घूम रहे हैं। इसलिए नगरपरिषद ने बेसहारा पशुओं की समस्या के समाधान के लिए नंदीशाला का विस्तार करने की याेजना बनाई है।

कैटल फ्री अपने शहर में बेसहारा पशुओं की भरमार से राहगीराें का सरकुलर राेड समेत अन्य सड़क मार्गाें व गलियाें से निकलना मुश्किल हाे रहा है। छह किलाेमीटर लंबे सरकुलर राेड पर खड़े बेसहारा पशुओं के कारण वाहन चालकाें काे लगभग 30 बार अपने वाहन काे ब्रेक लगाने पड़ते है। इसके बावजूद आए दिन सड़क व गलियाें में घूम रहे बेसहारा पशुओं के कारण सड़क दुर्घटनाएं हाे रही है। नगरपरिषद अब नंदीशाला की क्षमता 800 पशुओं से बढ़ाकर चार हजार पशुओं की करेगी।

यहां-यहां रहता है पशुओं का जमावड़ा

शहर में छह किलाेमीटर लंबे सरकुलर राेड पर घंटाघर से हांसी गेट, घंटाघर से दिनाेद गेट, दादरी गेट से बावड़ी गेट के अलावा चिड़ियाघर राेड स्थित पंचायत भवन के सामने, राेहतक गेट सब्जी मंडी, अनाज मंडी आदि स्थानाें पर हर समय पशु सड़काें पर दिखाई देते है। सेक्टर 13 व 23 में भी बेसहारा पशुओं की भरमार है। आए दिन राहगीर वाहन चालकाें के लिए सड़काें पर घूमते आवारा पशु दुर्घटनाओं का कारण बन रहे हैं।

परेशान शहरवासी जता रहे राेष

  • नप ने बेसहारा पशु के लिए हालुवास राेड क्षेत्र में नंदीशाला का निर्माण किया है। जहां लगभग 800 बेसहारा पशु है। हालांकि जब पशुओं से परेशान शहरवासी राेष जता रहे हैं।
  • नप की नंदीशाला का विस्तार के साथ साथ घायल गाेवंश के उपचार के लिए नंदीशाला में प्राइमरी पशु अस्पताल स्थापित करने की भी याेजना है। इस संबंध में नप पशुपालन विभाग के उच्चाधिकारियाें से बातचीत की जा रही है।

संस्था कर रही चारे के लिए सहयोग

नप चेयरपर्सन प्रतिनिधि भवानी प्रताप सिंह ने कहा कि नंदीशाला का दायरा बढ़ाया जाएगा। लगभग तीन से चार हजार पशुओं काे रखने की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही प्राइमरी पशु अस्पताल की व्यवस्था की याेजना है ताकि घायल पशुओं का समय पर उपचार करवाया जा सके। इसके बाद शहर में काेई भी बेसहारा पशु घूमता हुआ दिखाई नहीं देगा। नंदीशाला में जेसीआई संस्था नंदीशाला में चारा आदि की व्यवस्था मेंं सहयाेग कर रही है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Advertisement

Leave a Reply