भागलपुर में पुलिस पर पथराव: अतिक्रमण हटाने गई टीम पर ग्रामीणों ने किया हमला, महिलाओं को किया आगे; उग्र भीड़ को देख CO समेत पुलिस भी भागी

0
195
Advertisement

Advertisement
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Villagers Pelted Stones On Police In Bhagalpur; CO And Police Ran Away From Village; Bihar Crime Latest News

Bhagalpur7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महिलाओं को समझाती पुलिस।

भागलपुर में पुलिस और प्रशासन को अतिक्रमण हटाना उस समय महंगा पड़ गया, जब उग्र भीड़ ने पुलिस प्रशासन पर ही पथराव करना शुरू कर दिया। मामला गोराडीह थाना क्षेत्र के छोटी मोहनपुर गांव की है। यहां अतिक्रमण हटाने गयी पुलिस पर स्थानीय लोग हमलावर हो गये | इस दौरान ग्रामीणों ने अतिक्रमण हटाने गए सीओ और पुलिसकर्मियों पर पथराव कर के उन्हें लगभग आधा किलोमीटर तक खदेड़कर दिया | इस पूरे मामले में सीओ नवीन कुमार भूषण के बयान पर छोटी मोहनपुर गांव के करीब 13 लोगों को नामजद करते हुए 50 अज्ञात लोगों पर सरकारी कार्य को बाधित करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

क्या था मामला

दरअसल मोहनपुर पंचायत के छोटी मोहनपुर गांव में मनरेगा योजना के तहत सड़क निर्माण कराया जा रहा था | इस क्रम में कुछ ग्रामीणों ने सड़क निर्माण को रोक दिया | इस बावत लोगों ने बताया कि जिस जगह सड़क निर्माण कराया जा रहा था। वह जमीन अतिक्रमण को लेकर विवादित थी। ठेकेदार ने भी अतिक्रमण की जानकारी सीओ को दी थी | अतिक्रमण की जानकारी मिलने पर सीओ नवीन कुमार भूषण ने अंचल अमीन खुशबू कुमारी के द्वारा जमीन की मापी भी करवाया था | नापी कराने के बाद राजस्व कर्मचारी निताय कुमार घोष ने जांच प्रतिवेदन सौंप दिया जिसमे जमीन सरकारी और अतिक्रमित पाई गई थी। इसके उपरांत अंचल अधिकारी नवीन कुमार भूषण थानाध्यक्ष आशुतोष कुमार और अंचल अमीन खुशबू कुमारी के साथ बड़ी संख्या में पुलिस बल लेकर पहुंचे| इस दौरान अधिकारियों ने उक्त जमीन से अतिक्रमण हटाकर सड़क निर्माण भी करवाना शुरू कर दिया था।लेकिन ग्रामीण पप्पू कुमार से किसी बात को लेकर थानाध्यक्ष आशुतोष कुमार की नोक-झोंक हो गई | इस बात को लेकर ग्रामीण भडक उठे और मामला मारपीट तक पहुंच गया| इसके बाद कुछ लोग लाठी डंडे लेकर घर से निकाल पड़े| पुलिस के उग्र तेवर के बाद ग्रामीण भी उग्र हो गए | धीरे धीरे मामला बिगड़ता हीचला गया और फिर पुलिस पर पथराव शुरू हो गया |

क्या कहते हैं प्रत्यक्षदर्शी

प्रत्यक्षदर्शी पप्पू कुमार ने बताया कि पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में सड़क निर्माण कार्य चल रहा था | उस समय वह शौचालय से आया था और दूर से ही खड़े होकर निर्माण कार्य देख रहा था । तभी पप्पू कुमार और थानाध्यक्ष आशुतोष कुमार के बीच कहासुनी होने लगी | दोनों के बीच नोंक झोंक होते देख पप्पू की माँ नीलम देवी और बहन करीना कुमारी को भी पुलिस ने पीटने लगी जिससे ग्रामीण भडक गये और आक्रोशित होकर ग्रामीणों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। इस पथराव में कुछ पुलिस कर्मी और अंचल कर्मी के भी चोटिल होने की बात कही जा रही हैं |

क्या कहती है पुलिस

घटना के सम्बन्ध में थानाध्यक्ष आशुतोष कुमार ने बताया कि कुछ दबंगों द्वारा सड़क का काम रोकने की सूचना पर अंचलाधिकारी के साथ वे अपने दलबल के साथ वहां पहुंचे हुए थे| इसी दौरान कुछ असमाजिक तत्वों द्वारा सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के लिए प्रशासनिक टीम पर पथराव शुरू कर दिया गया | वहीं, अंचलाधिकारी नवीन कुमार भूषण ने बताया कि अतिक्रमण हटाकर मनरेगा के तहत सड़क निर्माण के लिए वे पुलिस के साथ छोटी मोहनपुर गांव पहुंचे थे। तभी कुछ शरारती लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। अंचलाधिकारी की मानें तो पथराव करने वालों में ज्यादातर संख्या में महिलाएं थीं। इसलिए सुरक्षा के लिहाज से उन लोगों को पीछे हटना पड़ा|

खबरें और भी हैं…

Source link

Advertisement

Leave a Reply