राशन कार्ड में ‘दत्ता’ की जगह ‘कुत्ता’ लिखे जाने पर अधिकारी पर ‘भौंकने’ लगा शख्स! वीडियो वायरल

0
31
Advertisement

Advertisement
कहते हैं कि घी जब सीधी उंगली से न निकले तो उंगली टेढ़ी करनी पड़ती है। एक शख्स ने अपना काम बनवाने के लिए कुछ ऐसा ही तरीका आजमाया। मामला पश्चिम बंगाल से है जहां एक शख्स के साथ अजीब-ओ-गरीब घटना हुई। शख्स ने अपना राशन कार्ड बनवाने के लिए दिया था। उसका नाम श्रीकांत दत्ता लिखा जाना था। लेकिन अधिकारियों ने गलती से वहां श्रीकांत ‘दत्ता’ की जगह श्रीकांत ‘कुत्ता’ लिख दिया। शख्स ने बहुत कोशिश की इसको ठीक करवाने की, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। आखिर में उसे वही करना पड़ा, जो उसके नाम में लिखा गया था। आप भी जानकर हैरान होंगे कि शख्स की गाड़ी के सामने जाकर भौं-भौं कर भोकने लगा। यानि कि कुत्ते की आवाज निकालने लगा। पश्चिम बंगाल से श्रीकांत दत्ता ने अपना राशन कार्ड बनवाने के लिए दिया था। अधिकारियों ने पहले तो उसका नाम श्रीकांत दत्ता की जगह श्रीकांत मंडल कर दिया। फिर जब वो इसे बदलवाने गया तो उसका उपनाम फिर से बदल दिया गया। लेकिन इस बार ‘दत्ता’ की जगह ‘कुत्ता’ लिख दिया गया। श्रीकांत के साथ ‘कुत्ता’ लग जाना शख्स को बहुत अपमानजनक लगा, जो कि स्वाभाविक है। किसी भी व्यक्ति का नाम उसकी सबसे बड़ी पहचान होती है, ऐसे में नाम के साथ गलती कोई कैसे बर्दाश्त करे। इस शख्स ने भी इसे ठीक करवाने की ठान ली। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक श्रीकांत ने कई बार अधिकारियों से इस बारे में गुहार लगाई कि उसके नाम में से गलती से लिखा गया ‘कुत्ता’ शब्द हटा दिया जाए। लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हुई। फिर आखिर में शख्स भरे रोड पर अधिकारी की गाड़ी के सामने ही आ गया। बीच सड़क में गाड़ी को रुकवाकर वह दस्तावेज अधिकारी को दिखाते हुए भौं-भौं कर भोंकने लगा। इस पर राह से आने जाने वाले भी हैरान रह गए कि आखिर माजरा क्या है! शख्स का वीडियो किसी ने रिकॉर्ड कर लिया और इंटरनेट पर डाल दिया। अब यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। 

शख्स को गाड़ी के सामने ऐसी अजीब हरकत करते देख अधिकारी भी दंग रह गए। जब उन्होंने दस्तावेज देखा तो मामला उनकी समझ में आया। अब श्रीकांत को दस्तावेज में हुई गलती को ठीक करने का आश्वासन दिया गया है। लेकिन शख्स का यह वीडियो तेजी से इंटरनेट पर वायरल हो गया है। मीडिया रिपोर्ट्स में सामने आई जानकारी के मुताबिक श्रीकांत बांकुड़ा-2 प्रखंड के बीकना पंचायत के रहने वाले हैं। बतौर मीडिया रिपोर्ट्स, श्रीकांत ने बताया कि उन्होंने बार बार इस गलती को सुधरवाने के लिए अर्जी दी, लेकिन जब उनकी सुनवाई नहीं हुई तो उनको यह रास्ता अपनाना पड़ा। उन्होंने कहा कि यह किसी व्यक्ति के लिए सामाजिक अपमान के दायरे में आता है। इस गलती पर कार्रवाई भी होनी चाहिए। 

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित ख़बरें

Source link

Advertisement

Leave a Reply