Advertisement

Advertisement
लखनऊ. राष्ट्रपति चुनाव से पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के सभी सांसदों व विधायकों की बैठक बुलाई है. जहां बैठक में विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को यूपी से अधिकतम वोट दिलाने के लिए अखिलेश यादव मंथन करेंगे. सपा व सहयोगी दलों को मिला कर 125 विधायक हैं, सहयोगी दल रालोद, निर्दलीय मिला कर सपा के राज्यसभा में पांच सांसद हैं. लोकसभा में अभी तीन सांसद हैं. दो सीटों पर उपचुनाव हो रहा है. सपा इन्हें जीतेगी तो पांच सांसद रहेंगे.

यूपी में एक विधायक का मूल्य 208 है और सांसद का मूल्य 700 है. इस तरह सपा व सहयोगी दलों को मिला कर उनके मतों का मूल्य 26000 है. सांसदों का मूल्य इसमें शामिल नहीं है. असल में अखिलेश यादव के लिए ज्यादा जिम्मेदारी है कि वह यशवंत सिन्हा को विपक्ष के अधिक से अधिक वोट दिलाएं. पूर्व केंद्रीय मंत्री तृणमूल कांग्रेस के नेता हैं और सपा का तृणमूल कांग्रेस से बेहतर रिश्ते हैं. यही नहीं यशवंत सिन्हा के अखिलेश यादव से भी अच्छे संबंध हैं और वह कुछ समय पहले सपा मुख्यालय भी आए थे.

UP: लखनऊ PGI में भर्ती हुए योगी सरकार के मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी, आज होगी सर्जरी

इस नाते भी अखिलेश यादव उनके लिए खासे सक्रिय हो गए हैं. सपा के लिए असली चुनौती यह भी है कि उसके विधायकों की पूरी तरह एकजुटता रहे. पिछली बार राष्ट्रपति चुनाव में सपा के एक दो विधायक एनडीए उम्मीदवार के समर्थन कर गए थे. चूंकि मतदान गुप्त होता है, इसलिए यह पता लगाना संभव नहीं हो पाता कि किसने किसको वोट दिया. बता दें कि एनडीए ने राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार घोषित किया है. इधर, राष्ट्रपति पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी. राष्ट्रपति पद के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा. वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है.

Tags: Akhilesh yadav, BJP Allies, Draupadi murmu, Lucknow news, Samajwadi Party समाजवादी पार्टी, UP news

Source link

Advertisement

Leave a Reply