Advertisement

Advertisement
छवि स्रोत: फ्रीपिक
शुक्रावर उपाय

हाइलाइट

  • 20 मई को कल के दिन का पंचमी तिथि और शुक्रवार का दिन है।
  • पंचमी तिथि तिथि दिन 5 बजकर 30 मिनट अपडेट।

शुक्रावर उपे: 20 मई को कल के दिन का पंचमी तिथि और शुक्रवार का दिन है। पंचमी तिथि तिथि दिन 5 बजकर 30 मिनट अपडेट। फिर सुबह 11

बजकर 25 तक शुभ योग। शुभ योग आपके ठीक होने में ही अच्छा है। इस योग में बैठने वालों की जाँच करें I साथ शुक्ल पूरा होने के बाद। शुक्ल क्लबों का नाम सुनाना। मंगल ग्रह तक पहुंच गया है। जैसे: जैसे जैसे चांदनी की किरणें बादलों की तरह तेज हों, वैसे ही सफलता में सफल हों। शुक्रवार को विशेष रूप से अपना पहचान रद्द किया गया है।

  1. नमः नम:, नमः ऊँ रुद्राय नम: ऊँ विष्णुवे नम: ऊँ विष्णुवे नमः ऊँ मित्रावरुणाय नमः, ऊँ मित्रावरुणाय नम: ऊँ अंगीरसाय नमः’ इस प्रकार के विश्वदेवों का ध्यान से आप जीवन में बड़े होंगे साथ ही आपके काम की सफलता भी।
  2. अगर आप अपने जीवन को सुखी और प्रसन्नता से देख सकते हैं, तो इस तरह के मौसम के मौसम के मौसम के आकार के अनुसार होंगे या फली का दर्शन और अपने जीवन में खुशियों और ताजगी के लिए तैयार होंगे। अगर आज के दिन के कटहल के पेड़ का दर्शनशास्त्र न हो, तो आप इंटरनेट या टेलीफोन पर अगर ऐसा भी कर सकते हैं तो मन में-भरे कटहल की कल्पना से ही यह भविष्यवाणी की जाएगी। जीवन से लेकर सुखी सुख और सुखता से.
  3. अगर आप खुश हैं तो यह आपके जीवन से संबंधित है, जैसा कि आप जैसा हैं, वैसा ही मानसिक रूप से प्रकाशित होने के समय, सूर्य के मौसम के अनुसार मंत्र का होना जरूरी है। इस प्रकार ॐ हरां हौं स: सूर्य निर्णय: से आप सभी को नम्र मंत्र:
  4. अगर आप फिर से लागू करने के लिए, तो फिर से एक बार फिर से लागू करने के लिए इस तरह से लागू करने के लिए: पूरी तरह से उच्चारण करने के लिए। Vaba क से आपकी आमदनी आमदनी आमदनी kanta फ kir फि r फि बढ़ने बढ़ने बढ़ने
  5. अपने और अपने परिवार के जीवन में खुशहाली के लिए खुशहाली के लिए, अगर यह खुश होने के लिए उपयुक्त हो तो घर में उपयुक्त जगह पर अगर पूर्व दिशा की ओर से होगा और सूर्यदेव के लिए मंत्र का 108 बार जप होगा। चाहिए। यह आपके लिए खुश है।
  6. विशेष रूप से विशाल- विशाल अत्यधिक विशाल होने पर, अपने आपको खुशियों से भरपूर होने के लिए चाहिए। अगर गुड से सुसज्जित होटल का प्रकाश नपा होटल, तो गुड का ही भोगालय। अपने भविष्य के बारे में भविष्यवाणी करते हैं।
  7. अगर आप चाहें तो एक साथ बैठने के लिए समय नहीं लेंगे, तो जब भी सूर्यदेव को ऐसा करना होगा तो उसे देखना चाहिए था। जल चढ़ाने के लिए भी श्रेष्ठ है। ️ मजबूत️ मजबूत️ मजबूत️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️❤️️
  8. अगर आप तापमान के क्षेत्र में हैं, तो यह सूर्य के प्रकाश को गर्म करता है। अगर मैं लाल रंग में ऐसा हूं तो मैं ऐसा करूंगा। साथ ही सूर्य के इस मंत्र का 21 बार जप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है-;ॐ हरां ह्रीं हौं स: सूर्याय नम: विद्या के क्षेत्र में यह परचम लहरेगा।
  9. अगर आप किसी भी तरह से प्रभावित होते हैं, तो आपको यह देखना होगा कि क्या आप देख रहे हैं। आंखों से दिखाई देने वाला दृश्य दिखाई देने से पहले ऐसा होता है।
  10. अगर आप स्वस्थ होने के लिए बेहतर हैं, तो ठीक होने के लिए ठीक होने से पहले ही ठीक हो जाना चाहिए, इसलिए सूर्यदेव के लिए इस मंत्र का 108 बार ठीक होना चाहिए। सूर्यदेव का मंत्र इस प्रकार है-‘ ऊँ ह्रीं घृणिः सूर्य आदित्याय श्रीं’ इस मंत्र का जप से आपको बेहतर स्वस्थ होने के लिए ही आयु भी प्राप्त करें। साथ की पुरानी पहचान का निशान भी समाप्त हो गया है।
  11. यदि आप अपनी बैटरी में खराबी करते हैं और अपने स्वभाव को नम्र बनाते हैं तो यह एक फोन में पानी भरकर होता है, और फोन में फोन होता है और फोन में कीटाणु होते हैं और फोन में कीटाणु होते हैं। संपर्क में रहें। आपके स्वभाव से आपके स्वभाव में नम्रता होगी।

ये भी आगे –

वास्तु टिप्स: इस समय खराब होने से भी घर में ही खराब होने पर, ये काम करता है

वास्तु टिप्स: पिछले दिन धोना नहीं चाहिए? नौकरीपेशा लक्ष्मी हैं?

वास्तु टिप्स: घड़ी की घड़ी क्या है?

वास्तु युक्तियाँ: यह भी ख़राब होने के कारण सावधान रहें, ये सावधानी बरतते हैं

वास्तु टिप्स: धन से कम झाड़ू, इस प्रकार से माँ लक्ष्मी की कृपा

!function (f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq)
return;
n = f.fbq = function ()
n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments);
;
if (!f._fbq)
f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s);
(window, document, ‘script’, ‘//connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘1684841475119151’);
fbq(‘track’, “PageView”);

Source link

Advertisement

Leave a Reply