समय से 7 दिन पहले मानसून की दस्तक

0
133
Advertisement

Advertisement
मानसून (monsoon) अपने तय समय से 7 दिन पहले राज्य में प्रवेश कर गया है। दक्षिणी-पश्चिमी मानसून (southwest monsoon) ने प्रदेश के कई जिलों में बारिश के साथ दस्तक दे दी है। मौसम विभाग (weather department) ने आज दोपहर इसकी अधिकारिक घोषणा कर दी है।

मध्यप्रदेश: भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesy) में भारी उमस और तेज गर्मी के बीच खुशियों भरी खबर (happy news) आई है। आज मानसून (monsoon) अपने तय समय से 7 दिन पहले राज्य में प्रवेश कर गया है। दक्षिणी-पश्चिमी मानसून (southwest monsoon) ने प्रदेश के कई जिलों में बारिश के साथ दस्तक दे दी है। मौसम विभाग (weather department) ने आज दोपहर इसकी अधिकारिक घोषणा कर दी है। उधर गुरुवार को सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक उमरिया में 35, मलाजखंड 23, मंडला में 22, सीधी में 20, छिंदवाड़ा में आठ, रीवा, सागर में पांच, सतना में तीन और जबलपुर में एक मिलीमीटर बारिश हुई।

मौसम विभाग ने बताया कि दोनों तरफ अरब सागर (Arabian Sea) और बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में बीते 10 दिन से मानसून के लगातार सक्रिय होने के कारण यह एक सप्ताह पहले आ गया है। हालांकि इसके पूरी तरह से यह 20 जून तक सक्रिय होने की उम्मीद है। 13-14 जून तक मानसून के इंदौर-भोपाल पहुंचने की संभावना है। इसके साथ ही भोपाल, उज्जैन, सागर, ग्वालियर एवं चंबल संभागों के जिलों में तथा खरगौन, बड़वानी, आलीराजपुर, झाबुआ, धार, इंदौर, होशंगाबाद, सीधी और सिंगरौली जिलों में कहीं-कहीं गरज चमक के साथ तेज हवाएं चल सकती हैं।

आवश्यक होता है बारिश के साथ ही ट्रफ लाइन का बनना
मौसम विभाग सभी तरह की बारिश की गतिविधियों के आंकलन के बाद ही मानसून सेट होने की घोषण करता है। इसमें बादलों की स्थिति, हवा और अन्य दूसरे स्टेशनों पर होने वाली बारिश के साथ ही ट्रफ लाइन (trough line) का बनना आवश्यक होता है। अभी एक ट्रफ लाइन उतरी सीमा सूरत, नादूरबार, बैतूल, मंडला, बिलासपुर, बलांगिर, पुरी से गुजर रही है। इसी के कारण यह बैतूल को टच कर गया है। अब इसके 20 जून तक पूरे प्रदेश में सक्रिय होने की संभावना है।

सितंबर में अपेक्षा से कम होगी बारिश
इसे प्री आनसेट (pre onset) की बारिश माना गया है। अब तक 10 दिन में ही दोगुना पानी गिर चुका है। मौसम विभाग के अनुसार अब तक प्रदेश में सामान्यत: 15.7 मिमी (करीब आधा इंच) बारिश होती है, जबकि एक जून से 10 जून की सुबह तक यह 29.3 मिमी (एक इंच से ज्यादा) पानी गिर चुका है। मौसम विभाग के अनुसार इस बार जून लगभग इसी तरह चलेगा। हालांकि मौसम विभाग की माने तो जुलाई और अगस्त में अच्छी बारिश होगी, लेकिन सितंबर में अपेक्षाकृत कम बारिश रहेगी। प्रदेश में इस बार सामान्य या इससे अधिक बारिश के आसार हैं।

  • 2009 से लगातार जारी समाचार पोर्टल webkhabar.com अपनी विशिष्ट तथ्यात्मक खबरों और विश्लेषण के लिए अपने पाठकों के बीच जाना जाता है।





Source link

Advertisement

Leave a Reply