20 माह पूर्व चुराई 18 करोड़ की मूर्तियां फेंक गए: मांझी में मंदिर से चोरी हुई कीमती मूर्तियों में से दो फेंके मिले; डेढ़ फुट लंबी मूर्तियों का वजह है 50 किलो

0
98
Advertisement

Advertisement

मांझीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

बरामद अष्टधातु की श्रीराम-जानकी की खंडित मूर्ति।

मांझी थाना क्षेत्र के फतेहपुर सरैया गांव स्थित राम-जानकी मठ परिसर में सोमवार की रात दूसरे स्थान से लाकर फेंकी गई अष्टधातु की श्रीराम-जानकी की खंडित मूर्ति बरामद की गई है। महज डेढ़ फुट लम्बी दोनों मूर्तियों का वजन करीब 50 किलो है। बरामद मूर्तियों की कीमत करीब 18 करोड़ आंकी जा रही है।

दरअसल, तीन माह पहले 27 करोड़ की तीन मूर्तियां चोरी गई थी। इसी में से दो मूर्ति बरामद की गई है। बताया जा रहा है कि बरामद दोनों मूर्तियां स्थानीय राम-जानकी मन्दिर परिसर के बक्से से लगभग 20 माह पूर्व चोरी कर ली गई थी। बरामद मूर्तियों का हाथ-पैर आंख तथा कुंडल आदि चोरों द्वारा काट कर निकाल लिए गए हैं। मूर्तियों की बरामदगी के बाद पुलिस ने छपरा से डॉग स्क्वायड की टीम को बुलाकर मामले की सघन जांच-पड़ताल की। अभी भी संदेह के आधार पर मूर्ति चोरों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

मूर्ति जहां मिली वहां एक जींस पैंट भी मिला है। थानाध्यक्ष ओम प्रकाश चौहान ने डॉग स्क्वायड बुलाई। टीम के साथ डॉग पैंट को सूंघने के बाद मंदिर परिसर से लगभग एक किलोमीटर दूर एक खंडहर बन चुके घर तक पहुंच कर रुक गया।

दूसरी बार मूर्ति चोरी का प्रयास

करोड़ों रूपए मूल्य की अष्टधातु से बनी तीन मूर्तियों की चोरी अपराधियों द्वारा वर्ष 2009 में राम-जानकी मंदिर के पुजारी को बंधक बना कर की गई थी। बाद में वर्ष 2012 में चोरी गई मूर्तियां पुलिस ने यूपी से बरामद की थी। तब से वह मन्दिर के बक्से में बन्द पड़ी थी। पुनः वर्ष 2019 में चोरों ने मंदिर का ताला तोड़ कर बक्से में बन्द राम, लक्ष्मण व जानकी की मूर्तियों की चोरी कर ली थी। पुनः सोमवार की रात चुपके से तीन में से दो मूर्तियों को फेंक गए।

खबरें और भी हैं…

Source link

Advertisement

Leave a Reply