Aditya Tejashwi Meeting: आदित्य ठाकरे-तेजस्वी यादव के बीच राबड़ी आवास पर हुई मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई वार्ता

0
18
Advertisement

Advertisement

आदित्य ठाकरे और तेजस्वी यादव ने की मुलाकात।
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने बुधवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की। वे तेजस्वी यादव से मिलने राबड़ी आवास पर पहुंचे। इस दौरान तेजस्वी यादव ने आदित्य ठाकरे, प्रियंका चतुर्वेदी सहित सभी नेताओं का स्वागत किया। स्वागत के दौरान तेजस्वी यादव ने मिथिला पेंटिंग की चादर और लालू यादव पर लिखी दो किताबें आदित्य ठाकरे को भेंट दीं। वहीं, आदित्य ठाकरे ने तेजस्वी यादव को एक मराठी शॉल और शिवाजी महाराज की मूर्ति उपहार में दी। राबड़ी आवास में मुलाकात और बैठक के दौरान शिवसेना की महिला नेता प्रियंका चतुर्वेदी और अनिल देसाई भी मौजूद रहे। इसके बाद, आदित्य ठाकरे और तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने एक अणे मार्ग गए। मुख्यमंत्री से मुलाकात को आदित्य ने शिष्टाचार भेंट कहा, जबकि तेजस्वी से मिलने के बाद उन्होंने कहा कहा कि महंगाई और बेरोजगारी पर हमें साथ मिलकर लड़ाई लड़नी है। एक सोच के युवाओं को मिलना और भाजपा के खिलाफ एकजुट होना वक्त की मांग है। इस मुलाकात के बाद राजद ने कहा कि दोनों युवा नेताओं की भेंट भाजपा सरकार के लिए खतरे की घंटी है। शाम पौने पांच बजे मुख्यमंत्री आवास से निकल आदित्य पटना एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए। महागठबंधन सरकार के दोनों प्रमुख नेताओं से आदित्य ठाकरे की मुलाकात के बाद उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि अभी लोकतंत्र को बचाने की चुनौती हमारे सामने है और इसे बचाने के लिए हमसे जो भी बन पड़ेगा, जरूर करेंगे।

 

इससे पहले, आदित्य ने मुंबई में कहा कि तेजस्वी यादव मेरी उम्र के हैं। हम हमेशा से फोन पर बात करते रहे हैं। जब हम सरकार में थे, तब भी उनसे बात होती थी। जब वह विपक्ष में थे, तब भी हमारी बातचीत जारी थी। आज हम पहली बार मिलेंगे। हम पर्यावरण, उद्योग, जलवायु संकट सहित अच्छे काम के बारे में चर्चा करेंगे। हालांकि, इस मुलाकात को विपक्षी एकता की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार काफी समय से विपक्ष को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है।

भाजपा ने कहा- तेजस्वी ने लालू से अलग स्टैंड लिया
आदित्य-तेजस्वी की मुलाकात को लेकर भाजपा नेताओं का कहना है कि लालू प्रसाद ने हर समय बाल ठाकरे के खिलाफ राजनीति की। उत्तर भारतीयों के खिलाफ शिवसेना का स्टैंड लालू को कभी नहीं भाया, लेकिन तेजस्वी यादव अपने पिता से अलग राह पर निकले हैं। आदित्य-नीतीश मुलाकात को लेकर भाजपा ने कहा कि नीतीश कुमार दिल्ली से लेकर देश की परिक्रमा कर आए हैं, लेकिन विपक्षी दलों में भी उन्हें भाव नहीं मिला। ऐसे में इन मुलाकातों से देश की नरेंद्र मोदी सरकार पर कोई असर नहीं पड़ सकता।

विस्तार

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने बुधवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की। वे तेजस्वी यादव से मिलने राबड़ी आवास पर पहुंचे। इस दौरान तेजस्वी यादव ने आदित्य ठाकरे, प्रियंका चतुर्वेदी सहित सभी नेताओं का स्वागत किया। स्वागत के दौरान तेजस्वी यादव ने मिथिला पेंटिंग की चादर और लालू यादव पर लिखी दो किताबें आदित्य ठाकरे को भेंट दीं। वहीं, आदित्य ठाकरे ने तेजस्वी यादव को एक मराठी शॉल और शिवाजी महाराज की मूर्ति उपहार में दी। 

राबड़ी आवास में मुलाकात और बैठक के दौरान शिवसेना की महिला नेता प्रियंका चतुर्वेदी और अनिल देसाई भी मौजूद रहे। इसके बाद, आदित्य ठाकरे और तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने एक अणे मार्ग गए। मुख्यमंत्री से मुलाकात को आदित्य ने शिष्टाचार भेंट कहा, जबकि तेजस्वी से मिलने के बाद उन्होंने कहा कहा कि महंगाई और बेरोजगारी पर हमें साथ मिलकर लड़ाई लड़नी है। एक सोच के युवाओं को मिलना और भाजपा के खिलाफ एकजुट होना वक्त की मांग है। इस मुलाकात के बाद राजद ने कहा कि दोनों युवा नेताओं की भेंट भाजपा सरकार के लिए खतरे की घंटी है। शाम पौने पांच बजे मुख्यमंत्री आवास से निकल आदित्य पटना एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए। महागठबंधन सरकार के दोनों प्रमुख नेताओं से आदित्य ठाकरे की मुलाकात के बाद उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि अभी लोकतंत्र को बचाने की चुनौती हमारे सामने है और इसे बचाने के लिए हमसे जो भी बन पड़ेगा, जरूर करेंगे।

 

इससे पहले, आदित्य ने मुंबई में कहा कि तेजस्वी यादव मेरी उम्र के हैं। हम हमेशा से फोन पर बात करते रहे हैं। जब हम सरकार में थे, तब भी उनसे बात होती थी। जब वह विपक्ष में थे, तब भी हमारी बातचीत जारी थी। आज हम पहली बार मिलेंगे। हम पर्यावरण, उद्योग, जलवायु संकट सहित अच्छे काम के बारे में चर्चा करेंगे। हालांकि, इस मुलाकात को विपक्षी एकता की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार काफी समय से विपक्ष को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है।

भाजपा ने कहा- तेजस्वी ने लालू से अलग स्टैंड लिया

आदित्य-तेजस्वी की मुलाकात को लेकर भाजपा नेताओं का कहना है कि लालू प्रसाद ने हर समय बाल ठाकरे के खिलाफ राजनीति की। उत्तर भारतीयों के खिलाफ शिवसेना का स्टैंड लालू को कभी नहीं भाया, लेकिन तेजस्वी यादव अपने पिता से अलग राह पर निकले हैं। आदित्य-नीतीश मुलाकात को लेकर भाजपा ने कहा कि नीतीश कुमार दिल्ली से लेकर देश की परिक्रमा कर आए हैं, लेकिन विपक्षी दलों में भी उन्हें भाव नहीं मिला। ऐसे में इन मुलाकातों से देश की नरेंद्र मोदी सरकार पर कोई असर नहीं पड़ सकता।

Source link

Advertisement

Leave a Reply