Advertisement

Advertisement
बीपीएससी की परीक्षा पास करने के बाद आईआईटियनजितेंद्र कुमार अब राजस्व अधिकारी बनेंगे। बेटे की सफलता पर मां राधिका कुंवर बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा कि बेटे को अफसरी बनाने का सपना देखा था, जो पूरा हो गया। बेटे की काबिलियत पर उन्हें भरोसा था। चैनपुर के रूपापट्टी निवास पिता निहोरा राम की मौत के बाद दोनों भाइयों ने उनके पढ़ाई की जिम्मेदारी संभाली और पिता की कमी अहसास नहीं होने दिया।

यहां पढ़ें- IAS ऑफिसर की बहन ने पास BPSC की परीक्षा

मां ने बताया कि जितेंद्र का चयन नवोदय विद्यालय चौरसिया की छठी कक्षा में नामांकन के लिए हुआ। वह कभी-कभी घर आता था। उसने प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही पूरी की थी। दसवीं की परीक्षा पास करने के बाद 12वीं की पढ़ाई नवोदय विद्यालय रांची से पूरी की। फिर आईआईटी रुड़की से केमिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद कुछ दिनों तक काम किया। इसके बाद घर आकर परीक्षा की तैयारी करने की बात बताई जिस पर उसके भाई राजी हुए और उसे पढ़ने के लिए पटना भेज दिया।

जितेंद्र ने बताया कि पिताजी छोटे-मोटे कार्य करके हम भाइयों का भरण-पोषण और पढ़ाई लिखाई का खर्च उठाते थे। लेकिन, उनकी मौत के बाद भाई कमाने लगे। भाइयों ने पढ़ाई में आर्थिक संकट का अहसास नहीं होने दिया। आईआईटी करने के बाद निजी कंपनी में नौकरी मिली। अच्छी तनख्वाह थी। लेकिन, परिवार की सलाह पर नौकरी छोड़ संकल्प के साथ प्रतियोगिता की तैयारी करने लगा और सफलता मिली। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय मां, भाई, मित्र एवं गुरुजनों को दिया है।

 

Source link

Advertisement

Leave a Reply