Advertisement

Advertisement
ख़बर सुनें

पंजाब के बाद हरियाणा में भी आतंकी संगठनों की घुसपैठ से इन्कार नहीं किया जा सकता। 15 अगस्त को हरियाणा को दहलाने की साजिश थी। कुरुक्षेत्र में मिले आरडीएक्स के बाद पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में यह खुलासा हुआ है। उधर, पिछले कई दिनों से सिख फॉर जस्टिस (एसजेएफ) के बैनर पर पन्नू लगातार धमकियां दे रहा था। पन्नू की धमकी में यह भी कहा जा रहा है कि वह तिरंगा नहीं फहराने देगा। फिलहाल इस घटना को भी स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में दहशत फैलाने की साजिश माना जा रहा है। पुलिस इस एंगल पर भी जांच कर रही है कि आरडीएक्स रखने के पीछे किस संगठन का हाथ है। एसटीएफ, एनआईए और आईबी के अधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना कर जांच शुरू कर दी है। उधर, बम मिलने की घटना के बाद से पूरे हरियाणा में सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है। 

हरियाणा में आतंकियों द्वारा आरडीएक्स रखने और मिलने की घटनाएं बढ़ रही हैं। करनाल के बसताड़ा टोल प्लाजा पर 5 मई को चार संदिग्ध आतंकियों से देसी पिस्टल, 31 जिंदा कारतूस, बारूद से भरे तीन कंटेनर और एक लाख 30 हजार रुपये बरामद हुए थे। इन आतंकियों में परमिंदर, अमनदीप और गुरप्रीत और भूपिंदर शामिल थे। 

जांच में सामने आया था कि ये पंजाब सहित कई जगह विस्फोटक रख चुके थे। पाकिस्तान में बैठे आतंकी हरविंद्र सिंह रिंदा के इशारे पर काम कर रहे थे। इससे पहले, अंबाला में भी नेशनल हाईवे के किनारे मैदान में तीन जिंदा हैंड ग्रेनेड मिले थे। कई बार हरियाणा के स्टेशनों को उड़ाने का पत्र मिल चुका है। खुफिया एजेंसियों का कहना है कि स्वतंत्रता दिवस पर कुछ आतंकी व देशी विरोधी ताकतें माहौल खराब करने की साचिश रच रही हैं। एक तरफ पूरा देश 15 अगस्त को लेकर हर घर तिरंगा अभियान में रंगा हुआ है, वहीं आतंकी लोगों की भीड़ में किसी बड़े धमाके की फिराक में थे। 

जून माह में चार साथियों के साथ आया था शाहाबाद शमशेर 
पुलिस का कहना है कि प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आरोपी शमेशर जून माह में अपने चार साथियों के साथ शाहाबाद आया था। उसी दौरान उसने दोस्तों के साथ मिलकर यह बम तैयार किया था। एसटीएफ के एसपी सुमित कुमार, डीएसपी अमन और इंस्पेक्टर दीपेंद्र सिंह आरोपी से पूछताछ कर रहे हैं। आरोपी से पूछताछ के बाद अन्य अहम जानकारी भी सामने आ सकती है। पुलिस ने शमशेर के अन्य साथियों की भी तलाश शुरू कर दी है। 

विस्तार

पंजाब के बाद हरियाणा में भी आतंकी संगठनों की घुसपैठ से इन्कार नहीं किया जा सकता। 15 अगस्त को हरियाणा को दहलाने की साजिश थी। कुरुक्षेत्र में मिले आरडीएक्स के बाद पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में यह खुलासा हुआ है। उधर, पिछले कई दिनों से सिख फॉर जस्टिस (एसजेएफ) के बैनर पर पन्नू लगातार धमकियां दे रहा था। 

पन्नू की धमकी में यह भी कहा जा रहा है कि वह तिरंगा नहीं फहराने देगा। फिलहाल इस घटना को भी स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में दहशत फैलाने की साजिश माना जा रहा है। पुलिस इस एंगल पर भी जांच कर रही है कि आरडीएक्स रखने के पीछे किस संगठन का हाथ है। एसटीएफ, एनआईए और आईबी के अधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना कर जांच शुरू कर दी है। उधर, बम मिलने की घटना के बाद से पूरे हरियाणा में सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है। 

हरियाणा में आतंकियों द्वारा आरडीएक्स रखने और मिलने की घटनाएं बढ़ रही हैं। करनाल के बसताड़ा टोल प्लाजा पर 5 मई को चार संदिग्ध आतंकियों से देसी पिस्टल, 31 जिंदा कारतूस, बारूद से भरे तीन कंटेनर और एक लाख 30 हजार रुपये बरामद हुए थे। इन आतंकियों में परमिंदर, अमनदीप और गुरप्रीत और भूपिंदर शामिल थे। 

जांच में सामने आया था कि ये पंजाब सहित कई जगह विस्फोटक रख चुके थे। पाकिस्तान में बैठे आतंकी हरविंद्र सिंह रिंदा के इशारे पर काम कर रहे थे। इससे पहले, अंबाला में भी नेशनल हाईवे के किनारे मैदान में तीन जिंदा हैंड ग्रेनेड मिले थे। कई बार हरियाणा के स्टेशनों को उड़ाने का पत्र मिल चुका है। खुफिया एजेंसियों का कहना है कि स्वतंत्रता दिवस पर कुछ आतंकी व देशी विरोधी ताकतें माहौल खराब करने की साचिश रच रही हैं। एक तरफ पूरा देश 15 अगस्त को लेकर हर घर तिरंगा अभियान में रंगा हुआ है, वहीं आतंकी लोगों की भीड़ में किसी बड़े धमाके की फिराक में थे। 

जून माह में चार साथियों के साथ आया था शाहाबाद शमशेर 

पुलिस का कहना है कि प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आरोपी शमेशर जून माह में अपने चार साथियों के साथ शाहाबाद आया था। उसी दौरान उसने दोस्तों के साथ मिलकर यह बम तैयार किया था। एसटीएफ के एसपी सुमित कुमार, डीएसपी अमन और इंस्पेक्टर दीपेंद्र सिंह आरोपी से पूछताछ कर रहे हैं। आरोपी से पूछताछ के बाद अन्य अहम जानकारी भी सामने आ सकती है। पुलिस ने शमशेर के अन्य साथियों की भी तलाश शुरू कर दी है। 

Source link

Advertisement

Leave a Reply