Advertisement

Advertisement

पुलिस की गिरफ्त में मुख्य लिपिक की हत्या के आरोपी। संवाद
– फोटो : Samvad

Hathras News : फिरोजाबाद के डीएवी इंटर कॉलेज के मुख्य लिपिक सुरेशचंद्र गौतम की हत्या का शनिवार को पुलिस ने खुलासा कर दिया।गौतम का शव 23 सितंबर की रात को सादाबाद-जलेसर मार्ग पर नगला ब्राह्मण की मढ़ैया की ओर जाने वाले संपर्क मार्ग पर लहूलुहान हालत में मिला था। पुलिस ने हत्या के सिलसिले में एक महिला और दो अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे से आलाकत्ल भी बरामद किया गया है। पुलिस के मुताबिक मुख्य लिपिक की हत्या साथी अध्यापक ने शराब पिलाने के बाद की थी।

सीओ सादाबाद गोपाल सिंह ने बताया कि 23 सितंबर को चौकीदार व अन्य व्यक्ति की सूचना पर लावारिस शव बरामद किया गया। मरने वाले के सिर पर चोट के निशान थे। इस मामले में थाना सहपऊ में सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। शव की शिनाख्त सुरेशचंद्र गौतम पुत्र लक्ष्मीनारायण गौतम निवासी कोटला रोड रानी नगर भट्ठे वाली गली थाना उत्तर जिला फिरोजाबाद के रूप में हुई। वह डीएवी इंटर कॉलेज फिरोजाबाद में लिपिक के पद पर कार्यरत थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण किसी भारी लोहे की वस्तु से सिर पर चोट पहुंचाना आया था।

पुलिस अधीक्षक ने सीओ सादाबाद के नेतृत्व में घटना के खुलासे के लिए टीम गठित की थी। एसओजी और स्वाट टीम को भी लगाया गया था। पुलिस टीम ने घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज व अन्य साक्ष्य एकत्रित किए। इनके आधार पर 30 सितंबर को घटना में शामिल तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त हरवेंद्र उर्फ नीरज की निशानदेही पर आला कत्ल लोहे की रॉड, मृतक का चश्मा, पैन व मृतक का आधार कार्ड, पैन कार्ड और स्कूल का पहचान पत्र बरामद किया गया।

हरवेंद्र ने पूछताछ में बताया कि वह डीएवी इंटर कॉलेज फिरोजाबाद में अध्यापक है और सुरेश से उसकी अच्छी-खासी दोस्ती थी। सुरेश के उसके घर पर आना-जाना था। इस कारण सुरेश की पत्नी से उसकी जान पहचान हो गई। कई दिनों से मृतक की पत्नी उससे कह रही थी कि सुरेश शराब पीकर दूसरों पर रुपये उड़ाता है और हम लोगों के रुपये नही देता है तो उसने कहा कि यदि सुरेश की मृत्यु उसके रिटायरमेंट से पहले हो जाए तो उसके बेटे मोनू को नौकरी मिल सकती है।

20 सितंबर को उसने मृतक का बेटा मोनू और पत्नी के साथ बैठकर पूरी योजना बनाई। योजना के अनुसार 23 सितंबर को शाम करीब 4.45 बजे उसने सुरेश को गांव पबरा चलने के बहाने अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाया और जलेसर पहुंचकर वहां से शराब लेकर उसको पिलाई। इसके बाद सादाबाद की तरफ चल दिए।

सादाबाद से पहले गंदे नाले से थोड़ी दूर चलकर मार्ग पर मोटरसाइकिल से उतरकर वह सड़क पर बैठ गया तो उसने मौके का फायदा उठाकर लोहे की रॉड से प्रहार कर उसकी हत्या कर दी। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में हरवेंद्र उर्फ नीरज पुत्र देवेंद्र निवासी नगला गांछ के अलावा मृतक मोनू एवं मृतक की पत्नी शामिल है। पुलिस टीम में निरीक्षक अशोक कुमार सिंह प्रभारी स्वाट टीम, प्रभारी निरीक्षक सहपऊ अमित कुमार भी शामिल थे।

Source link

Advertisement