htls 2022 hindustan times leadership summit 2022 day 5 Viswanathan Anand – HTLS 2022: 5 बार के वर्ल्ड चैंपियन विश्वनाथन आनंद युवा खिलाड़ियों के प्रदर्शन से हैं खुश, कहा

0
35
Advertisement

Advertisement
ऐप पर पढ़ें
HTLS 2022 के 20वें एडीशन का आज पांचवा दिन है। 8 नवंबर से शुरू हुए इस समिट में आज खेल जगत की कई हस्तियों ने भी शिरकत किया है। सचिन और लारा के बाद विश्ननाथन आनंद ने भारत में शतरंज के भविष्य और खिलाड़ियों को लेकर अपनी बात रखी है। शतरंज की दुनिया के बादशाह विश्ननाथन आनंद वर्ष 2000, 2007, 2008, 2010, 2012 में कुल पांच बार शतरंज में विश्व चैंपियन का खिताब जीत चुके हैं। पांच बार के विश्व शतरंज चैंपियन विश्वनाथन आनंद और भारत के सबसे युवा ग्रैंडमास्टर डी गुकेश ने वरिष्ठ खेल पत्रकार शारदा उग्रा से शतरंज से जुड़े कई मुद्दों पर बातचीत की। विश्ननाथन आनंद 1991 में राजीव गांधी खेल रत्‍न और 2007 में पद्मविभूषण से नवाजे गए पहले खिलाड़ी हैं। 

गुकेश : आनंद सर मेरे आदर्श थे और यही कारण था कि मैं शतरंज में आया। मैं उनके साथ और अन्य कोचों के साथ शतरंज पर बात करने को लेकर बहुत खुश था। गुयावस्की जैसे लोग भी वहां थे इसलिए मैं बहुत उत्साहित था। मैं वास्तव में नहीं बता सकता है मैंने वहां सभी क्लासेस से कितना सीखा”

HTLS 2022: विव रिचर्ड्स के एक फोन कॉल ने 2007 वर्ल्ड कप के बाद सचिन तेंदुलकर को रोका था रिटायरमेंट लेने से

गुकेश ने बताया कि आनंद के शुरुआती सालों में खेलना कैसा होता?

गुकेश: यह वर्तमान पीढ़ी से अलग था। जिस तरह से उन्होंने खेल का विश्लेषण किया – सब कुछ बहुत अलग था। इंजनों से सीखना बहुत अच्छा है लेकिन मैं यह जानने के लिए उत्सुक हूं कि विशी सर की पीढ़ी में खेलना मेरे लिए कैसा रहा होता”

आनंद : आनंद ने माना कि आज के खिलाड़ियों के पास उनके करियर के शुरुआती वर्षों से ज्यादा सुविधाएं है लेकिन वह उन दिनों को मिस करते हैं। उसे लगता है कि वह कुछ भी नहीं बदलेगा क्योंकि ऐसा नहीं है कि मौजूदा खिलाड़ियों के पास कोई रियल एडवांटेज है क्योंकि उनके प्रतिस्पर्धियों के पास समान सुविधाएं हैं।

HTLS 2022: सचिन-लारा के साथ में बल्लेबाजी करने से लेकर दोनों की पहली मुलाकात तक, जाने 5 बड़ी बातें

आनंद : 50 साल पहले क्लासिकल गेम कहीं बेहतर थे। जब आप उस प्रारूप में जीते थे तो आपको विश्व चैंपियन माना जाता था। ब्लिट्ज लापरवाही से खेला गया। यह मेरे लिए दुर्भाग्यपूर्ण था कि मैं तेज शतरंज और कुछ ब्लिट्ज पर हावी रहा। लेकिन उस समय रैपिड के लिए आधिकारिक रेटिंग थी। अब पिछले 10 वर्षों में दर्जनों रिकॉर्ड गिन रहे हैं, मैं प्री-रिकॉर्ड युग में रहा था। जैसे-जैसे लोग इससे परिचित होते गए, रैपिड शतरंज ने क्लासिक चेस के बराबर पहुंच गया। अभी भी गैप है। आपके पास प्रारूपों के साथ एक खुला दिमाग होना चाहिए, जो भी दर्शक देखना चाहते हैं उसे खेलें। यदि आप एक अच्छी गुणवत्ता वाला गेम तैयार करते हैं, तो बढ़िया। मुख्य बात अपने कौशल को दिखाना है।

इंडिया में चेस के भविष्य पर आनंद ने कहा- एक लहर है। बहुत से लोग शतरंज खेलते हैं और उसका फॉलो करते हैं। इंटरनेट ने शतरंज को सभी के लिए आसान बना दिया है। अभी, भारत में शतरंज का अच्छा उदय हुआ है और महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे पास एक स्वर्णिम पीढ़ी है। गुकेश की पीक रेटिंग 16 रही है और वह अब भी टॉप-25 में है। अर्जुन 1-2 अंक पीछे है। निहाल सरीन एक ऑनलाइन ग्लोबल इवेंट के फाइनल में पहुंचीं। प्रज्ञानानंद ने इस साल मैग्नस को 5 बार हराया है।

Source link

Advertisement

Leave a Reply