Advertisement
आपको बता दे कि दुनिया के शीर्ष पाम तेल निर्यातक इंडोनेशिया ने 28 अप्रैल को पाम आयल एक्सपोर्ट पर बैन लगा दिया था। इंडोनेशिया ने तेल की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए एक्सपोर्ट पर बैन लगा दिया था।

यह भी पढ़ें

GST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारें

 

Advertisement


बैन का इंडोनेशियाई किसानों ने किया विरोध

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पाम आयल एक्सपोर्ट पर बैन लगने के बाद सैकड़ों इंडोनेशियाई छोटे किसानों ने राजधानी जकार्ता व देश के अन्य हिस्सों में विरोध प्रदर्शन करके इसे हटाने की मांग की। पाम आयल एक्सपोर्ट पर बैन लगने से उनकी आय पर असर पड़ रहा है। इंडोनेशियन ऑयल पाम फार्मर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गुलाट मनुरुंग ने कहा कि खाना पकाने के तेल की घरेलू कीमत कम करने के लिए निर्यात में लगाए गए प्रतिबंध ने लगभग 16 मिलियन किसानों के सामने आर्थिक कठिनाई पैदा कर दी है।


पाम आयल एक्सपोर्ट पर बैन लगाने के बाद भी नहीं कम हुए दाम

अप्रैल में पाम आयल एक्सपोर्ट में बैन लगने के पहले थोक में तेल की औसत कीमत 19,800 रुपये प्रति लीटर थी। वहीं बैन के बाद इसकी कीमत पहले लगभग 17,200 व फिर और घटकर 17,600 रुपए प्रति लीटर हो गई। राष्ट्रपति ने बयान जारी करते हुए बताया कि थोक में तेल की कीमत लक्ष्य के अनुसार कम नहीं हुई है। अभी इसकी कीमत थोक में 14,000 रुपए प्रति लीटर बनी हुई है, लेकिन किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए पाम आयल एक्सपोर्ट पर लगे बैन को हटाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें

अलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाई

 

Source

Advertisement

Leave a Reply