Advertisement

Advertisement
नई दिल्ली। Kia Carens को भारत में लॉन्च हुए अभी ज्यादा समय नहीं बीता है। अब लॉन्चिंग के बाद जब इसे अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है तब ग्राहकों के लिए निराश करने वाली खबर आई है। दरअसल कार की मजबूती और उसमें बैठे हुए ड्राइवर और पैसेंजर की सेफ्टी चेक करने के लिए उन्हें Global (NCAP) क्रैश टेस्ट से गुजारा जाता है। ये टेस्ट काफी इंटेंस होता है जिसमें कार की मजबूती और वो कितनी सेफ है इस बारे में सही जानकारी मिल जाती है। इस टेस्ट में जब Kia Carens को उतारा गया तो उसका प्रदर्शन उम्मीद से काफी कम रहा और इसकी वजह से ग्राहकों को थोड़ी निराशा जरूर हो सकती है।

बता दें कि Kia Carens को ग्लोबल एनसीएपी क्रैश टेस्ट में 3-स्टार रेटिंग मिली है। कार ने एडल्ट ऑक्यूपेंट सेफ्टी के लिए 9.30 पॉइंट्स और चाइल्ड ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन के लिए 30.99 पॉइंट्स हासिल किए।क्रैश टेस्ट रिपोर्ट के अनुसार, कैरेंस ने चालक और यात्री के सिर और गर्दन को अच्छी सुरक्षा प्रदान की। चालक की छाती को दी जाने वाली सुरक्षा मामूली थी जबकि यात्री की छाती को मिलने वाला प्रोटेक्शन अच्छा था।

कार ने चालक और यात्री को घुटने की मामूली सुरक्षा प्रदान की। ड्राइवर के टिबिया को कार ने अच्छा प्रोटेक्शन प्रदान किया है वहीं यात्री की टिबिया को भी अच्छी सुरक्षा मिल रही है। बॉडीशेल और फुटवेल एरियाज को अनस्टेबल रखा गया है, और वे आगे के भार को झेलने में सक्षम नहीं थे।

3 साल के बच्चे के लिए बच्चे की सीट इम्पैक्ट के दौरान अत्यधिक सिर की गति को रोकने में सक्षम नहीं थी, सिर को खराब सुरक्षा और छाती को उचित सुरक्षा प्रदान करने में कार सफल रही है। 1.5 वर्षीय बच्चे की सीट इम्पैक्ट के दौरान सिर के जोखिम को रोकने में सक्षम थी, जिससे सिर और छाती को अच्छी सुरक्षा मिलती थी।

परीक्षण वाहन फ्रंट सीटबेल्ट प्री-टेंशनर, डुअल फ्रंट एयरबैग, साइड बॉडी एयरबैग, साइड हेड एयरबैग, सीट बेल्ट रिमाइंडर, आईएसओफिक्स और एबीएस से लैस था।

Source link

Advertisement

Leave a Reply