Transgenders Walk The Ramp At Agra Winter Carnival – Agra Winter Carnival: ट्रांसजेंडर्स ने बिखेरा अपने हुनर का जलवा, रैंप पर आत्मविश्वास से बढ़ाए कदम

0
28
Advertisement

Advertisement
कोठी मीना बाजार मैदान में चल रहे आगरा विंटर कॉर्निवाल में  ट्रांसजेंडर्स (मंगलामुखी) ने बुधवार रात को रैंप पर वॉक कर जलवा बिखेरा। रैंप पर आत्मविश्वास से भरे कदम बढ़ाए, वहीं बॉलीवुड के गीतों पर डांस कर दर्शकों की वाहवाही लूटी। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना से हुआ। इसके बाद ट्रांसजेंडर्स ने फैशन शो और बॉलीवुड के गानों पर डांस किया।  ट्रांसजेंडर्स की प्रस्तुतियों पर पंडाल तालियों से गूंजता रहा। 

 

फैशन शो में आगरा, दिल्ली, मथुरा, फरीदाबाद के ट्रांसजेंडर शामिल हुए। एकता संस्था की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में ट्रांसजेंडर ने कोई झिझक नहीं दिखाई। बड़े ही आत्मविश्वास से रैंप पर कदम बढ़ाए। यूपी ट्रांसजेंडर बोर्ड की सदस्य राधिका बाई ने कार्यक्रम का संचालन किया। मेला आयोजक मनीष अग्रवाल ने बताया कि समाज से कटे मंगलामुखी समाज को मुख्यधारा में शामिल करने और उनकी प्रतिभा को प्रदर्शित करने के लिए आयोजन किया गया। 

सात साल की उम्र में घर छोड़ा

दिल्ली की माही ने कहा कि जब महज सात साल की थी, बस्ती वालों के दबाव में मुझे घर छोड़ना पड़ा। माता-पिता कभी नहीं चाहते थे कि मैं घर छोड़ूं, लेकिन बस्ती वाले मेरे माता-पिता को परेशान करते और चिढ़ाते थे। ग्वालियर, आगरा, दिल्ली जगह-जगह भटकती रही। मंगलामुखियों के सहयोग से आज एक मेकअप आर्टिस्ट हूं। माता-पिता भी साथ रहते हैं।

मॉडल बनना चाहती थी

मथुरा की आलिया ने कहा कि बचपन से सपना था मॉडलिंग करने का, लेकिन ट्रांसजेंडर होने की वजह से मुझे मॉडलिंग नहीं करने मिला। इसके लिए मुंबई भी गई तो वहां लोगों ने अलग नजरिए से मुझे देखा। आज मैं मॉडल हूं और मुझे मॉडलिंग के बड़े-बड़े ऑफर आते हैं।

अभी पढ़ाई कर रही हूं

आगरा की शिवानी चौधरी ने कहा कि अभी पढ़ाई कर रही हूं। मेरा सपना है कि मैं एक मॉडल बनूं। मेरे माता-पिता ने मुझे स्वीकार किया है क्योंकि उनकी कोई और संतान नहीं है। 17 साल की हूं और मन लगाकर अपनी पढ़ाई भी कर रही हूं और मुझे लाइफ में बहुत कुछ करना है।

कोठी मीना बाजार मैदान में चल रहे आगरा विंटर कार्निवाल में 100 से अधिक दुकानें लगाई गई हैं। स्वादिस्ट व्यंजनों की स्टॉलें सजी हुई हैं। झूला भी लगे हैं, जो बच्चों लुभा रहे हैं, वहीं ऊंट सवारी भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। 

Source link

Advertisement

Leave a Reply