Advertisement

Advertisement
यूपी बोर्ड के कक्षा 9 से 12 तक की किताबें बाजार में उपलब्ध नहीं हैं। यह स्थिति तब है जबकि किताबों की आपूर्ति के लिए तीन-तीन प्रकाशक उपलबध हैं। इसका मुख्य कारण यह बताया जा रहा है कि, किताबों में मार्जिन कम होने के नाते पुस्तक विक्रेता बेचने से परहेज कर रहे हैं। यह स्थिति पूरे प्रदेश में बनी हुई हैं।

माध्यमिक शिक्षा परिषद के संचालित उच्चतर माध्यमिक तथा इंटर कॉलेजों में एनसीईआरटीई की किताबों से पढ़ाई होती है। इन किताबों की छपाई की जिम्मेदारी कैला जी बुक्स आगरा, पीताम्बरा बुक्स झांसी और डायनामिक टेक्स्ट बुक्स झांसी को सौंपी गई है। इन्हीं तीनों को किताबें बाजारों में आपूर्ति करनी थी। कुल 34 विषयों की 67 किताबों के लिए मची मारामारी के कारणों की जब हिन्दुस्तान ने पड़ताल में पता चला कि सबसे ज्यादा संकट इंटरमीडिएट भौतिक विज्ञान, रसायन, विज्ञान तथा जीव विज्ञान (बॉयोलॉजी) की किताबों का है। यह किताबें बाजार में नहीं है। पुस्तक विक्रेताओं का कहना है कि प्रकाशक ही किताबें मुहैया नहीं करा रहे हैं। हाईस्कूल की अंग्रेजी, गणित, हिन्दी और विज्ञान की भी किताबें कम पड़ गईं हैं। किताबों की कमी को देखते हुए डीआईओएस ने लखनऊ के जुबिली इंटर कॉलेज में प्रकाशकों के 5 दिन स्टॉल लगवाए। वहां भी एक दिन तो सभी किताबें मिली लेकिन बाद में किताबें कम पड़ गईं।

राजकीय जुबिली इंटर कॉलेज में प्रकाशकों का स्टॉल लगाया था। कुछ विषयों की किताबों की कमी थी। अन्य स्कूलों में लगवाने की बात चल रही है ताकि पुस्तकें मुहैया हो सकें। – राकेश पाण्डेय, डीआईओएस,

यूपी बोर्ड ने जारी की NCERT किताबों की रेट लिस्ट, 8 रुपये में लें 12वीं भूगोल की किताब

पुस्तक विक्रेता बोले

प्रकाशक किताबें उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं। एनसीआरटी की किताबों के दाम कम होने से बचत न के बराबर है।- प्रदीप कुमार अग्रवाल, व्यापार सदन

इन किताबों पर एक फीसदी की बचत है। किताबों को लाने व दूसरे जिलों में भेजने में कोई बचत नहीं होती है। नुकसान हो रहा है। – जितिन्द्र सिंह चौहान, अध्यक्ष, उप्र. स्टेशनरी विक्रेता एवं निर्माता एसो.

किताबों में एक फीसदी कमीशन

छात्र संख्या के अनुपात में किताबों की छपाई नहीं हो पा रही है। पुस्तकें उपलब्ध न होने का दूसरा बड़ा कारण पुस्तक विक्रेताओं की कम आमदनी भी है। अमीनाबाद के विक्रेताओं का कहना है कि किताब के प्रिंट रेट पर एक फीसदी मार्जिन है। मांग के मुताबिक प्रकाशक किताबे भी नहीं दे रहे हैं। इस नाते संकट है।

अन्य जिलों में भी है यह समस्या

पश्चिमी यूपी में सहारनपुर को छोड़कर मेरठ, बागपत, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, अलीगढ़, बदायूं, बरेली, मुरादाबाद, में भी ऐसे ही हालात हैं। मेरठ में यूपी बोर्ड की कक्षा 9 से 12 तक विज्ञान व कामर्स की किताबों की दिक्कत है। तो अलीगढ़ में मुख्य विषयों की किताब उपलब्ध नहीं है। बरेली, मुरादाबाद में छात्र भटक रहे हैं।

पूर्वी व मध्य यूपी में भी मारामारी

प्रयागराज हो यावाराणसी, भदोही, सोनभद्र, या फिर जौनपुर-गाजीपुर सभी जगहों पर यूपी बोर्ड की किताबें बाजार में अभी उपलब्ध नहीं हैं। बच्चों को किताबें उपलब्ध कराने के लिए इनमें से कई जिलों में स्टॉल लगाने की तैयारी चल रही है लेकिन अभी स्टॉल नहीं लगे हैं। गोरखपुर में किताबें अभी पूरी तरह उपलब्ध नहीं है।

 

Source link

Advertisement

Leave a Reply