Advertisement

Advertisement
कर्नाटक में एक सरकारी बस ड्राइवर का बेटा आईपीएस ऑफिसर बनेगा। भालकी के रहने वाले और कर्नाटक के बीदर में पले-बढ़े अनुराग दारु ने यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2021 ( UPSC CSE Exam 2021 ) में 569वीं रैंक हासिल की है। सिविल सेवा परीक्षा 2021 के नतीजे पिछले माह ही घोषित किए गए थे। अनुराग के पिता कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम में बस ड्राइवर हैं। 

दारु की सफलता का जश्न मनाने के लिए कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम ने बुधवार को एक समारोह का आयोजन किया जिसमें निगम के अध्यक्ष एम. चंद्रप्पा और प्रबंध निदेशक वी. अंबुकुमार ने दारु और उनके माता पिता माणिक राव तथा काशीबाई को सम्मानित किया। 

परिवहन विभाग के अधिकारी ने बताया कि दारु के पिता माणिक राव केएसआरटीसी में बस चालक हैं और बीदर डिवीजन के बाल्की डिपो में तैनात हैं। दारु ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से कहा कि उन्होंने इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। यूपीएससी में उनका ऑप्शनल इतिहास विषय था। पांचवें प्रयास में उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा पास की। 

अपनी सफलता को लेकर अनुराग ने कहा, ‘यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की मेरी यात्रा में काफी उतार चढ़ाव थे। मैं 2017 से यूपीएससी की तैयारी कर रहा था। यह मेरा 5वां प्रयास था। इस संघर्ष में मेरा माता पिता ने मुझे पूरा सपोर्ट दिया।’ 

दारु ने बताया कि वह अपने माता-पिता की पांच संतानों में से एक हैं। उनकी तीन बड़ी बहनें कंप्यूटर इंजीनियर हैं और उनकी शादी हो चुकी है। 

 

हर वर्ष IAS, IPS ऑफिसर बनने का ख्वाब संजोने वाले लाखों उम्मीदवार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा देते हैं। इस परीक्षा को देश की सबसे चुनौतिपूर्ण प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक माना जाता है। 

यूपीएससी सिविल सेवा के जरिए इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज (आईएएस), भारतीय पुलिस सर्विसेज (आईपीएस) और भारतीय फॉरेन सर्विसेज (आईएफएस), रेलवे ग्रुप ए (इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस), इंडियन पोस्टल सर्विसेज, भारतीय डाक सेवा, इंडियन ट्रेड सर्विसेज सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है। यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों — प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार– में आयोजित की जाती है। मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार में प्रदर्शन के आधार पर फाइनल मेरिट लिस्ट जारी होती है।

 

Source link

Advertisement

Leave a Reply