Wrong Arrears And Interest Will Recover From Teachers Salary And Pension – एरियर घोटाला: सरकार बड़ी कार्रवाई की तैयारी में, शिक्षकों के वेतन, पेंशन से होगी गलत एरियर, ब्याज की रिकवरी

0
30
Advertisement

Advertisement

सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : फाइल फोटो

ख़बर सुनें

हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग के 400 करोड़ रुपये के एरियर घोटाले में सरकार बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है। स्कूल शिक्षा विभाग गलत एरियर और उसका ब्याज लेने वाले जेबीटी, भाषा अध्यापकों, टीजीटी और सेवानिवृत्त शिक्षकों के वेतन, पेंशन से राशि की रिकवरी करेगा। वित्त महकमा एक सीट पर लंबे समय से जमे अफसरों को हटाने का पूरा खाका खींच चुका है।900 से अधिक अनुभाग अधिकारी, लेखा अधिकारी, वरिष्ठ लेखा अधिकारी, मुख्य लेखा अधिकारी, खजाना अधिकारी और सहायक खजाना अधिकारी एक सीट पर लंबे समय से जमे हुए हैं। इन्हें बदलने की तैयारी चल रही है। डेढ़ सौ-दो सौ तो ऐसे हैं, जो लेखा अधिकारी से वरिष्ठ लेखा अधिकारी और मुख्य लेखा अधिकारी एक विभाग में रहते ही बने, दूसरे विभाग में तबादला ही नहीं हुआ। सहायक खजाना व खजाना अधिकारियों के अनेक मामलों में भी यही स्थिति है।

ये अफसर तबादले से बचने के लिए अब वित्त विभाग के उच्च अधिकारियों को यह समझाने की कोशिश करने में लगे हैं कि वरिष्ठ लेखा, मुख्य लेखा अधिकारी या खजाना अधिकारी बने उन्हें डेढ़ से दो साल ही हुए हैं। लेकिन, वे अपना पिछड़ा रिकार्ड नहीं बता रहे कि एक ही विभाग में कितने समय से हैं। चूंकि, एरियर घोटाले को जिलों में शिक्षकों ने 70 फीसदी डीडीओ, अनुभाग अधिकारियों के अलावा लेखा अधिकारियों के साथ मिलकर अंजाम दिया है।

यह घोटाला स्कूल शिक्षा और वित्त विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से 2017 के बाद इतने बड़े स्तर पर हुआ है कि किसी ने कार्रवाई की हिम्मत ही नहीं दिखाई। मामला मुख्य सचिव और सीआईडी के पास पहुंचने के बाद वित्त विभाग हरकत में आया। स्कूल शिक्षा विभाग में भी हड़कंप मचा हुआ है। जल्द ही वित्त विभाग के एक स्थान पर जमे अफसरों के तबादला और शिक्षकों से एरियर वसूली के आदेश जारी हो सकते हैं।

कितने शिक्षकों ने गलत फायदा उठाया यह जांच का विषय : दूहन
मौलिक शिक्षा विभाग के मुख्य लेखा अधिकारी आरसी दूहन ने कहा कि कितने शिक्षकों ने गलत एरियर और उसका ब्याज लिया है, यह जांच में ही सामने आएगा। जिला शिक्षा अधिकारियों से रिकॉर्ड मांगा गया है। जल्दी अनुस्मरण पत्र भेजकर दोबारा जानकारी भेजने को कहेंगे। उसके बाद ही आगामी कार्रवाई होगी।      

इस प्रकार हुआ एरियर का गलत भुगतान

  •  शिक्षकों ने स्कूल डीडीओ से अपने केस लेकर जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अनुभाग अधिकारी से सांठगांठ कर सत्यापित करवाए।
  •  हाथों हाथ केस ले जाकर वित्त विभाग के नियमों के खिलाफ जिला कैडर की बजाय दूसरे जिले के जूनियर टीचर के उदाहरण पर सत्यापित करवाया व गलत एरियर निकलवा लिया।
  •  अपने जिले में बात न बनने पर दूसरे जिले के अनुभाग अधिकारी से सांठगांठ कर केस सत्यापित करवाए।
  •  प्रमोशन या अन्य जिले में तबादला होने पर वहां के एसओ से सांठगांठ कर पिछली अवधि का केस सत्यापित करवा लिया।

विस्तार

हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग के 400 करोड़ रुपये के एरियर घोटाले में सरकार बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है। स्कूल शिक्षा विभाग गलत एरियर और उसका ब्याज लेने वाले जेबीटी, भाषा अध्यापकों, टीजीटी और सेवानिवृत्त शिक्षकों के वेतन, पेंशन से राशि की रिकवरी करेगा। वित्त महकमा एक सीट पर लंबे समय से जमे अफसरों को हटाने का पूरा खाका खींच चुका है।

900 से अधिक अनुभाग अधिकारी, लेखा अधिकारी, वरिष्ठ लेखा अधिकारी, मुख्य लेखा अधिकारी, खजाना अधिकारी और सहायक खजाना अधिकारी एक सीट पर लंबे समय से जमे हुए हैं। इन्हें बदलने की तैयारी चल रही है। डेढ़ सौ-दो सौ तो ऐसे हैं, जो लेखा अधिकारी से वरिष्ठ लेखा अधिकारी और मुख्य लेखा अधिकारी एक विभाग में रहते ही बने, दूसरे विभाग में तबादला ही नहीं हुआ। सहायक खजाना व खजाना अधिकारियों के अनेक मामलों में भी यही स्थिति है।

ये अफसर तबादले से बचने के लिए अब वित्त विभाग के उच्च अधिकारियों को यह समझाने की कोशिश करने में लगे हैं कि वरिष्ठ लेखा, मुख्य लेखा अधिकारी या खजाना अधिकारी बने उन्हें डेढ़ से दो साल ही हुए हैं। लेकिन, वे अपना पिछड़ा रिकार्ड नहीं बता रहे कि एक ही विभाग में कितने समय से हैं। चूंकि, एरियर घोटाले को जिलों में शिक्षकों ने 70 फीसदी डीडीओ, अनुभाग अधिकारियों के अलावा लेखा अधिकारियों के साथ मिलकर अंजाम दिया है।

यह घोटाला स्कूल शिक्षा और वित्त विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से 2017 के बाद इतने बड़े स्तर पर हुआ है कि किसी ने कार्रवाई की हिम्मत ही नहीं दिखाई। मामला मुख्य सचिव और सीआईडी के पास पहुंचने के बाद वित्त विभाग हरकत में आया। स्कूल शिक्षा विभाग में भी हड़कंप मचा हुआ है। जल्द ही वित्त विभाग के एक स्थान पर जमे अफसरों के तबादला और शिक्षकों से एरियर वसूली के आदेश जारी हो सकते हैं।

कितने शिक्षकों ने गलत फायदा उठाया यह जांच का विषय : दूहन

मौलिक शिक्षा विभाग के मुख्य लेखा अधिकारी आरसी दूहन ने कहा कि कितने शिक्षकों ने गलत एरियर और उसका ब्याज लिया है, यह जांच में ही सामने आएगा। जिला शिक्षा अधिकारियों से रिकॉर्ड मांगा गया है। जल्दी अनुस्मरण पत्र भेजकर दोबारा जानकारी भेजने को कहेंगे। उसके बाद ही आगामी कार्रवाई होगी।      
इस प्रकार हुआ एरियर का गलत भुगतान

  •  शिक्षकों ने स्कूल डीडीओ से अपने केस लेकर जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अनुभाग अधिकारी से सांठगांठ कर सत्यापित करवाए।
  •  हाथों हाथ केस ले जाकर वित्त विभाग के नियमों के खिलाफ जिला कैडर की बजाय दूसरे जिले के जूनियर टीचर के उदाहरण पर सत्यापित करवाया व गलत एरियर निकलवा लिया।
  •  अपने जिले में बात न बनने पर दूसरे जिले के अनुभाग अधिकारी से सांठगांठ कर केस सत्यापित करवाए।
  •  प्रमोशन या अन्य जिले में तबादला होने पर वहां के एसओ से सांठगांठ कर पिछली अवधि का केस सत्यापित करवा लिया।

Source link

Advertisement

Leave a Reply